A

2017-01-10

I.A.S Indian Administrative Service Preparation Tips For Beginner ,Age Limit,Salary, Syllabus, Eligibility Ke Bare Me In Hindi

I.A.S Indian Administrative Service

  सिविल सेवा परीक्षा
तैयारी में न हो कोई चूक-
सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी को लेकर हर किसी की अपनी-2 रणनीति होती है। कोई सेल्फ स्टडी में विश्वास करता है, तो कोई कोचिंग में । तरीका जो भी अपनाएं, मगर यह सत्य है कि धैर्य के साथ लगातार सुव्यवस्थित तरीके से इस परीक्षा की तैयारी की जाए, तो सफलता अवश्य मिलती है।

1.    इंटरनेट, अखबार और मैग्जीन से मित्रता करें। पढाई के साथ-2 समसामयिक घटनाओं पर नजर रखें।
2.    सामाजिक अध्ययन के लिए एनसीईआरटी की 9वी से 12वी तक की पुस्तकें जरुर पढें।

           आईएएस अधिकारी बनने की चाह लाखों युवाओं के मन में होती है।देश की इस सब से प्रतिष्ठित परीक्षा में हर साल लाखों अभ्यर्थी अपना भाग्य आजमाते है, जिसमें हर साल कुछ सौ श्रेष्ठ छात्र ही चयनित उम्मीदवारों को यूपीएससी (संघ लोक सेवा आयोग) द्वारा खास ट्रेनिंग देकर अधिकारी के रुप मे ंतैयार किया जाता है। भारतीय सिविल सेवा परीक्षा में चयनित अभ्यर्थियों को उनकी रैंक के अनुसार अलग-2 कैडर मिलती है। राष्ट्रीय स्तर के आलावा राज्यों के स्तर पर भी स्टेट पब्लिक सर्विस की परीक्षा आयोजित होती है।
1.
2.
3.
4.
5.

I.A.S Banane Ki Beginging, Kaise Banate Hain?

आईएएस अधिकारी बनने के लिए भारतीय सिविल सेवा परीक्षा में भाग लेना होता है। इस परीक्षा के लिए 21 से 30 वर्ष तक के किसी भी स्ट्रीम सें ग्रेजुएट छात्र आवेदन कर सकते है। यहॉ तक कि डॉक्टर और इंजीनियरिंग जैसी प्रोफेशनल डिग्री धारक भी इस परीक्षा में अधिकतम चार बार हिस्सा लें सकते है।
     यूपीएससी प्रतिवर्ष इस परीक्षा के मुख्यतः दो चरण है- प्रीलिमिनिरी परीक्षा और दूसरी मुख्य परीक्षा प्रीलिमिनिरी परीक्षा को (सिविल सर्विस एप्ट्यिूट टेस्ट) के नाम से भी जानते है। इसमे दो पेपर होते है। पेपर 1 (200 अंको) की परीक्षा है, जिसमें इतिहास, राजनीति विज्ञान, भूगोल, विज्ञान व अर्थशास्त्र समेत दूसरे विषयों से 100 प्रश्न पूछे जाते है। वही पेपर 2 भी 200 अंको का प्रश्न-पत्र होता है, जिसमे रीजनिंग क्वानटेटिव एब्टीट्यूट और प्रॉब्लम सॉल्विंग के कुल 80 प्रश्न पूछे जाते है।

               साल 2015 से सिविल सेवा परीक्षा के नियमों में संशोधन किया गया, तब से ब्ै।ज् परीक्षा के  केवल क्वालिफाइंग परीक्षा है। इसमें क्वालिफाई के लिए 33 प्रतिशत अंक जरुरी है। वही उम्मीद्वारों  को सामान्य पेपर 1 को मेरिट का आधार माना जाता है। इसकी दूसरे चरण की मुख्य परीक्षा में 300 अंको का अंग्रेजी का पंेपर भी जुडा है। इसके अलावा 300 अंको में हिन्दी या कोई अन्य भारतीय भाषा, 250-250 अंक के चार सामान्य अध्ययन के पेपर और अभ्यर्थी द्वारा चुने गए दो विषया के दो पेपर इस मुख्य परीक्षा का हिस्सा होते है। इसमें क्वालिफाई छात्रों को इंटरव्यू के लिए चुना जाता है। इसके बाद इंटरव्यू और मुख्य परीक्षा में प्राप्त अंको को अधार बनाकर फाइनल रैंक तैयार की जाती है। इस आधार पर आईएएस का चयन होता है।
1.
2.
3.
4.
5.
संस्थान-

इस परीक्षा में चयन के लिए किसी तरह का खास संस्थान तो नही है। अभ्यर्थी अध्ययन के लगातार अभ्यास के बूते इसकी तैयारी करते है। वैसे कई निजी संस्थान इस परीक्षा के लिए कोचिंग उपलब्ध कराते है, जो अपने स्तर पर अभ्यर्थी को इस परीक्षा के कोर्स से संबंधित अध्ययन सामग्री और पेपर हल करने की ट्रीक बताते है, लेकिन किसी भी प्राइवेट संस्थान में कोचिंग लेने से पहले उसकी टीचिंग फैकल्टी के बारे में वहॉ के पूर्व छात्रो से जाने । एडमिशन से पूर्व आप डेमो क्लास भी ले सकते है। जानकारो के अनुसार, जागरुक अध्ययन, प्रैक्टिस व अनुशासन इस परीक्षा में सफलता का मूल मंत्र है।


Salary Package

यहॉ कैडर के अनुसार अलग-2 सैलरी पैकेज मिलता है।  इसके अलावा आवास, ट्रांसपोर्ट, ड्राइवर, मेडिकल आदि सुविधाए भी है। आईएएस चयनित अभ्यर्थी 2 साल के लिए प्रोवेशन पीरियड पर होते है। इसमे ज्यादातर समय ट्रेनिंग का होता है। इसके बाद उन्हे राज्य सचिवालयों, फिल्ड आफिसर या डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट कार्यालयो में बतौर अधिकारी तैनाक किया जाता है। इसके बाद समय-2 पर उन्हे प्रमोशन मिलती है।

 I.A.S Me Raking Ke Hisab Se Kaun Sa Career Apka Hain

आईएएस परीक्षा पास करने के बाद रैकिंग के आधार पर निम्न कैडर मे सेवा का मौका मिलता है।

1.    भारतीय फॉरेस्ट सर्विस
2.     भारतीय प्रशासनिक सेवा
3.     भारतीय पुलिस सेवा
4.     भारतीय विदेश सेवा
5.    भारतीय राजस्व सेवा
6.    भारतीय पोस्ट, टेलीकम्यूनिकेशन अकाउंट और वित सेवा
7.    भारतीय रेलेवे ट्रैफिक सेवा
8.    रेलेवे प्रोटेक्शन फोर्स
9.    भारतीय रक्षा संपदा सेवा
10.    रक्षा सचिवालय सेवा
11.    भारतीय सूचना सेवा
12.    केन्द्रीय औधौगिक सुरक्षा बल
13.    भारतीय रेलेवे कार्मिक सेवा
14.    भारतीय ऑडिट एंड अकाउंट सर्विस
15.    भारतीय रेलवे लेखा सेवा
16.    भारतीय रक्षा लेखा सेवा
17.    केन्द्रीय सचिवालय सेवा
18.    केन्द्र शासित पुलिस सेवा
19.     केन्द्र शासित प्रशासनिक सेवा आदि।
 
आईएएस टारगेट कर रहे है, तो सबसे पहले आत्म विश्लेषण कर ले । फिर परीक्षा के सिलेबस को समझें। अब यूपीएससी के पिछले पाच सालों के प्रश्नपत्रो को गौर से देखें और यह जाने कि आखिर यूपीएससी अभ्यर्थियों से चाहती क्या है।  9वी से 12वी तक की सामाजिक विज्ञान की किताबों का अध्ययन जरुर करें। इसके अलावा हर विषय की एक-2 प्रमाणित किताब जरुर लें, जिसका अध्ययन और समय पर रिविजन करते रहें। इसके अलावा न्यूज पेपर मैग्जीन और इंटरनेट से दोस्ती कर लें। प्रतिदिन एक अच्छा न्यूज पेपर साप्ताहिक या मासिक पत्रिका का नियमित अध्ययन और इंटरनेट पर सूचनाओं के विस्फोट पर पैनी नजर रखे। इस सबके साथ-2 सरकारी वेबसाइट जैसे च्प्ठ ।प्त्प्छक्प्। समेत अन्य मंत्रालयों की वेबसाइट भी समय-2 पर चेक करतेे रहे। इससे सरकार के काम-काज की जानकारी मिलती है, कोचिंग पर निर्भर न रहें, माइडेंस केे नजरिय से कोचिंग से लाभ हो सकता है, लेकिन यदि आप जागरुत है, तो बिना कोचिंग भी इस क्षेत्र में सफलता हासिल कर सकते है।
       निशांत जैन 2014 की सिविल सर्विस परीक्षा में 13वी रैक पर सलेक्शन

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें