A

2017-05-13

IAS Preparation Tips For Beginners In Hindi

आईएएसकी परीक्षा देनी है, तो घंटों पढना पढेगा। इसके लिए जरूरी है मस्तिष्‍क को पढाई के लिए तैयार करना।
आईएएस परीक्षा में बैठना है!
1.
2.
3.
4.

5.
आईएएस की परीक्षा में कामयाबी पाने के लिए आपको दिन और रात एक करते हुए अधिक से अधिक समय तक पढना चाहिए। ए.एल.एस इंस्‍टीट्यूट के वरिष्‍ठ फैकल्‍टी मेंबर कहते है, पढाई को घंटों में बांटने से ज्‍यादा जरूरी है रेगुलर होना। जो भी पढें गहराई से पढें और उस पर चिंतन करें। इससे आत्‍मविश्‍वास भी बढता है और विश्‍लेषण क्षमता का भी विकास होता है। गौर करने वाली बात यह है कि आईएएस के एग्‍जाम में सफलता के लिए अपनी तैयारी को सही दिशा देने ज्‍यादा जरूरत होती है। अगर आप पूरे फोकस के साथ पढाई करते है, तो कम समय में भी बेहतर तैयारी को अंजाम दिया जा सकता है। पढाई उतनी देर करें, जितनी देर आप एकाग्र होकर पढ सकें।

पढाई में मन नही लग रहा है और आप किताब खोल कर बैठे है, तो कोई फायदा नहीं।
जब पढाई से मन उचट जाए, तो थोडी देर के लिए मनोरंजन कर लें, कही घूम कर आ जाएं।
1.
2.
3.
4.

5.
नियम बनाएं

आपकी क्षमताओं को आपसे बेहतर और कोई नही जानता, इसलिए बेहतर पढाई के लिए पहले खुद को समझें। इसके बाद खुद ही अपने लिए नियम बनाएं, सफलता निश्चित रूप से आपके कदम चूमेगी। विशेषज्ञों का मानना है कि पढाई के दौरान दिमाग को आराम देना आवश्‍यक होता है।

पढाई भी-मनोरंजन भी


चाहे आप किसी भी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे हों, पढाई का एक निश्चित टाइम-टेबल होना बहुत जरूरी है। बिना टाइम टेबल सेट किए पढाई तो की जा सकती है, लेकिन लंबे समय तक खुद को प्रेरित कर पाना काफी मुश्किल होता है। हालांकि टाइम-टेबल बना लेना ही काफी नही होता, इसके बाद उसे फॉलो करते रहने की बडी चुनौती सामने होती है। अक्‍सर यह देखा गया है कि प्रारंभ में विद्यार्थी जोश के साथ टाइम टेबल को फॉलो कर पढाई करना शुरू करते है। परंतु कुछ समय बाद टाइम टेबल को फॉलों करना छोड देते है। यदि आप भी स्‍वयं के लिए टाइम टेबल सेट करने का विचार बना रहें है, तो उससे पहले कुछ बातों का अवश्‍य ध्‍यान रखें। टाइम टेबल सेट करतेसमय अक्‍सर विद्यार्थी जो गलती करते है वह जोश में टाइम टेबल सेट करना। जोश में सेट किए गए टाइम टेबल में वे अधिकतम समय पढाई के लिए सेट करते है।इसे फॉलो करने में कुछ दिन तो बहुत अच्‍छा लगता है, लेकिन कुछ समय बाद वह बोरिंग लगने लगता है। इसलिए टाइम टेबल सेट करते समय इस बात का ध्‍यान रखें कि पढाई के साथ-साथ मनोरंजन के लिए भी पर्याप्‍त समय निर्धारित रहे।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें