A

2017-07-14

Kaise Project Presentation Logo Ke Samane De

सफल होने के लिए प्रोजेक्‍ट प्रेजेटेंशन को एक अवसर के रूप में देखें। जितनी बेहतर प्रोजेक्‍ट की प्रस्‍तुति होगी, सफलता भी उतनी ही जल्‍दी हासिल करेंगे।

.......ताकि प्रजेंटेशन में बन जाए बात

कॉरपोरेट जगत में सिर्फ मेहनत करने से बात नहीं बनती । दर असल, किसी भी प्रोजेक्‍ट को पूरा  करने के बाद जरूरत होती है, उसे प्रेजेंट करने की और यही सही समय होता है खुद को साबित करने का। आपके प्रोजेक्‍ट की प्रस्‍तुति खुद प्रोजेक्‍ट से ज्‍यादा महत्‍व रखती है, इसलिए इस मौके को भुनाने के लिए खास सावधानी की जरूरत होती है। यदि आप जल्‍दी सफल होना चाहते है, तो आपको प्रोजेक्‍ट प्रेजेटेंशन को एक अवसर के रूप में देखना चाहिए। दरअसल, प्रोजेक्‍ट प्रेजेटेंशन के लिए एक खास तरह की स्किल की जरूरत होती है, और इसमें माहिर व्‍यक्ति दूसरों के मुकाबले जल्‍द सफल होते है।
1.
2.
3.
4.


5.
1 अभ्‍यास करने से छोटी-छोटी गलतियों का पता चलेगा, जिससे गलतियां अधिक नहीं होगी।2 बातों की प्रामाणिकता साबित करने के लिए आंकडे जुटाएं, फिर बात को मजबूती से सामने रखें ।
3 प्रेजेटेशन देने के दौरान लोगों से नजरें चुराकर नहीं, नजरें मिलाकर बात करें।

प्रैक्टिस जरूर कर लें


प्रेजंटेंशन के दौरान अपनी बात को बेहतर तरीके से समझाने के लिए ग्राफिक्‍स या अन्‍य ऑडियो-वीडियो माध्‍यमों का सहारा लें। प्रोजेक्‍टर का उपयोग आपकी प्रेजेटेंशन को ज्‍यादा प्रभावी बनाएगा। ऑफि‍स में प्रेजेटेंशन देने से पहले एक बार प्रेजेटेंशन देने की प्रैक्टिस जरूर करें।नजरें मिलाकर करें बातऑफिस मे प्रेजेटेंशन देने की बात आती है, तो कुछ लोग घबरा जाते है। इसमें घबराना नहीं चाहिए। आप इसे इस तरह लें कि आपको एक मौका मिला है अपने काम को सबके सामने रखने का। फिर भी, प्रोजेक्‍ट प्रेजेटेंशन के दौरान कुछ सावधानियां बरते। प्रेजेटेंशन देने के दौरान जोर-जोर से न बोलें। यह भी ध्‍यान रखें कि बोलते समय वहां बैठे लोगों से नजरें न चुराएं। सभी से नजरें मिलाकर बात करें। इससे आपका उन सभी लोगों से सीधा संपर्क बन सकेगा। यह आपके आत्‍मविश्‍वास के स्‍तर को भी दर्शाता है। प्रेजेटेशन, अपनी बात को दूसरों तक पहुचानें का जरिया होना चाहिए, न कि आलोचना का मंच। कई बार प्रेजेटेशन में नकारात्‍मक तथ्‍यों की अधिकता हो जाती है, इस पर ध्‍यान दें। साथ ही दूसरों पर निजी टिप्‍पणी देने से भी बचें। आप जो बोलें, उसी के अनुसार आपकी बॉडी लैग्‍वेज भी हो। यदि आप किसी की प्रेजेटेशन स्‍टाइल या कुछ आदतों से प्रेरित है, तो उसे अपने शब्‍दों में या तरीके से लोगों के सामने प्रस्‍तुत करें। किसी की नकल न करें, क्‍योकि इसका नकारात्‍मक असर आपकी प्रेजेटेशन पर पड सकता है।     

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें