A

2017-09-06

Fragrance Chemist or Perfumery Me Career Kaise Banaye

सुगंध की राह पर चलकर बनाएं भविष्‍य

एक अच्‍छा परफ्यूमर वह होता है, जिसे कई तरह की चीजों को मिलाकर परफ्यूम बनाने और फ्लेवरिंग करने की जानकारी और होती है।

यदि आप में खुशबू (फ्रेगरेंस) को महसूस करने की समझ है, या फिर सुगेध को लेकर उत्‍साही है, तो आपके लिए फ्रेगरेंस केमिस्‍ट या परफ्यूमर बनना एक बेहतर करियर विकल्‍प हो सकता है। यह बहुत ही रचनात्‍मक क्षेत्र है। फ्रेगरेंस केमिसट या के रूप में करियर बनाना फ्लेवर्स एंड फ्रेगरेंस जगत में चुनौतीपूर्ण व्‍यवसाय है।

क्‍या है परफ्यूमरी

’परफ्यूमरी’ शब्‍द का प्रयोग परफ्यूम व्‍यापार के लिए किया जाता है, जिसमें परफ्यूम का उत्‍पाद करना, बेचना या तरह-तरह के परफ्यूम बनाने की कला शामिल होती है। एक परफ्यूमर को विभिन्‍न चीजों को मिलाकर परफ्यूम बनाने और फ्लेवरिंग करने का विशेषज्ञ माना जाता है। परफ्यूमर्स एक तरह से केमिसट होते है, जिनका मुख्‍य ध्‍यान फ्रेगरेंस का उत्‍पादन करने पर होता है। एक अच्‍छे परफ्यूमर को विविध प्रकार की सुगंधित सामग्री और उनकी सुगंध की प्रमुख जानकारी होनी चाहिए।

शैक्षणिक योग्‍यता

परफ्यूमरी के क्षेत्र में करियर बनाने के लिए आपके पास कम से कम रसायन शास्‍त्र में बैचलर डिग्री होना चाहीए। तभी आप काम करते हुए इसकी बारीकियां सीख सकते है। जिन्‍हे फ्रेगरेंस की दुनिया में अच्‍छा मुकाम हासिल करना है, उन्‍हें मास्‍टर शया पीएचडी की डिग्री की आवश्‍यकता होती है। इससे नौकरी के अवसर अधिक उपलब्‍ध्‍सा होते है। परफ्यूमर बनने के लिए प्रशिक्ष्‍ण प्रक्रिया तीव्र एवं कठोर होती है, जिसमें कई साल लग सकता है। एक अच्‍छी परफ्यूमिस्‍ट बनने के लिए आप शुरूआत बतौर इंटर्न कर सकते है। परफ्यूमिस्‍ट बनने के लिए आवश्‍यक जानकारी प्राप्‍त करने के बाद एक स्‍वतंत्र परफ्यूमिस्‍ट बनकर खुद का उद्यम भी ख्‍डा कर सकते है।

कार्य की रूपरेखा

परफ्यूमर्स मुख्‍य रूप से फ्रेगरेंस हाउस के लिए काम करते है। इनका काम सभी प्रकार के उत्‍पादों के लिए सुगंध की नई-नई विधियां बनाना है। ये सिर्फ परफ्यूम्‍स को ही नहीं, बल्कि ऑटोमाबाइल एयर फ्रेशनर से लकर पाउडर, साबुन, सर्फ, सौंदर्य उत्‍पादों आदि को भी खुशबूदार बनाने का काम करते है। सुगंध-द्रव्‍य(परफ्यूमरी) को फल, फूल, तेल, लकडी, पोधे आदि सामग्री को मिलाकर बनाया जाता है। गुलाब परु्फ्यूमरी में उपयोग होने वाला सबसे महत्‍वपूर्ण उत्‍पाद है।

प्रमुख शिक्षण संस्‍थान

इंस्‍टीट्यूट ऑफ केमिकल टेक्‍नोलॉली, मुंबई
फ्रेगरेंस एंड फ्लेवर डेवलपमेंट सेंटर,(एफएफडीसी) कन्‍नौज, उत्‍तर प्रदेश
वी.जी.वेज कॉलेज ऑॅफ आर्ट्स, साइंस एंड कॉमर्स, मुंबईvazecollege.net

पाठयक्रम में क्‍या

भारत में परफ्यूमरी के क्षेत्र में प्रशिक्षण देने वाले कुछ ही संस्‍थान है। को  परफ्यूमरी के पाठयक्रम को मदद से आप फ्रेगरेंस जीनियोलॉजी, केमिस्‍ट्री ऑफ फ्रेंगरेंस, सैकडों एसेंशियल ऑयल की सुगंधो की पहचान करना, सूंघने की क्षमता को विकसित करना और विश्‍व में परफ्यूम की कंपनियां किस तरह काम करती है आदि के बारे में जानकारी दी जाती है।

व्‍यक्तिगत विशेषता

व्‍यक्तिगत गुण की बात करें, तो परफ्यूमर बनने के लिए सबसे महत्‍वपूर्ण गुण सुगंध को समसूस करने की क्षमता है। सुगंधों को पहचानने की योग्‍यता के लिए एक परफ्यूमर को आकर्षक तरीके से अलग-अलग तरह की सुगंधो को मिलाने की प्रतिभा होनी चाहिए। अच्‍छी याद्दाश्‍त इस क्षेत्र में फायदे का काम करेगी। धैर्य और काम के प्रति जूनून हो। इस क्षेत्र में करियर बनाने वालों के पास रचनात्‍मकता को लेकर जुनून और नई सुगंधों को जानने –समझने के लिए उत्‍सुकता हो। एक परफ्यूमर में मानवीय एवं मनोविज्ञान व्‍यवहार  की जानकारी हो, खासकर सुगंध के क्षेत्र में ताकि लोगों के दिमाग, स्‍मरणशक्ति या भावनाओं का पता लगाया जा सके।

नौकरी के अवसर

परफ्यूमर्स के लिए नौकरी, भोजन चखने वाले विशेषज्ञों की तरह है, जो कई व्‍यावसायिक भोजन के उत्‍पादों के लिए सुगंधो और स्‍वादों को बनाने है। एक परफ्यूमर के कार्य की प्रकृति एक शोध्‍कर्ता की तरह है, जो अपना ज्‍यादातर समय विभिन्‍न प्रकार की सुगंधो के साथ प्रयोग करते हुए बिताता है। ये फ्रेगरेंस की दुनिया में कई क्षेत्रों में काम करते है। परफ्यूमिस्‍ट चाय और वाइन जगत के अलावा सुगंध चिकित्‍सा के क्षेत्र में भी नौकरी के अवसर तलाश सकते है। भोजन एवं पेय पदार्थो से संबंधित उद्योगो में नि‍यमित रूप से उत्‍पादों की सुगंधो के परीक्षण की आवश्‍यकता होती है,  इसलिए उन्‍हें अच्‍छे परफ्यूमिस्‍ट की जरूरत होती है।

कमाई हो कितनी

20-25 हजार रूपये सैलरी करियर की शुरूआत में मिलता है।
50-60 हजार रूपयो सालों के कार्यानुभव होने पर प्रतिमाह कमा सकते है।

वेतन की बात

इस क्षेत्र में शुरूआती पेशवर 20 से 25 हजार रूपये के बीच मासिक वेतन पा सकते है। मान्‍यता प्राप्‍त कॉलेज से परफ्यूमरी डिग्री होने पर शुरूआत में लगभग 35 हजार पा सकते है।

विशेषज्ञ की बात


भारत में यह क्षेत्र अभी पूरी तरह से विकसित नहीं हुआ है, लेकिन जैसे-जैसे हमारी अर्थव्‍यवस्‍था बढ रही है, लोगों की लग्‍जरी चीजों को लेकर मांग भी बढ रही है। ऐसे में इस क्षेत्र का विकास भी हो रहा है। बतौर फ्रेगरेंस केमिस्‍ट या परफ्यूमर करियर बनाना, इस बात पर निर्भर करता है कि देश में लोगों की मांग कैसी है। जरूरी नहीं है कि आप परफ्यूम बनाने वाले ही बने। आप इससे संबंधित शॉर्ट टर्म कोर्स करके परफ्यूम लैब में सहायक हो सकते है। उसकी टेस्टिंग कर सकते है और बेहतर सैलरी पा सकते है। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें