A

2017-10-13

Sahjan Khane Ke Fayde and Benefits

सहजन का साथ निभाएं

सहजन में कोई पोषक तत्‍व मौजूद होते है। इसके फायदों के बारे में बता रहे है

01 सहजन में कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, वसा, पानी, विटामिन सी, कैल्शियम, आयरन आदि तत्‍व पाए जाते है। ये सभी तत्‍व शरीर के लिए बहुत लाभकारी होते है।

02 इसके पेड के लगभग सभी भाग जैसे पत्‍ते, फूल, फल, बीज, छाल, जड विभिन्‍न औषधियों को बनाने में उपयोग किए जाते है, जो कई रोगों को दूर करते है।

03 जड की छाल से बने काढें में सेंधा नमक एवं हींग डालकर पीने से पित्‍ताशय की पथरी में हितकर है। घाव पर पत्‍तों को पीस कर लगाने से घाव भरते है।


04 पत्‍तों का सूप बना कर पीने से रक्‍त रोगों का शमन होता है तथा शुद्ध रक्‍त की बढोतरी होती है। कान दर्द में इसके पत्‍तों का रस डालने से दर्द दूर होता है।

05 फलियो के सेवन से वृद्धावस्‍था के रोग शांत होते है। सौदर्य में वृद्धि‍ होती है। पैर की मोच या जोडों के दर्द का दूर करने के लिए पत्‍तों को पीसकर पेस्‍ट बनाएं। सरसों के तेल में इसे पका कर बोधने से लाभ होता है। रोज इसके तेल से शरीर की मालिश करें। लाभ होगा।

06 बच्‍चों के पेट में होने वाले कीडों की समस्‍या कोद दूर करने के लिए इसके पत्‍तों का रस हितकर है। उल्‍टी और दस्‍तों में भी यह प्रयोग लाभकारी है।

07 इसके पत्‍तों के नियमित सेवन से धीरें-धीरे मोटापा कम होता है और शरीर स्‍वस्‍थ रहता है। पत्‍तों का काढा पीने से गठिया, साइटिका और पक्षाघात में लाभ होता है।

08 इसकी छाल को उबाल कर कुल्‍ला करने से दांत दर्द दूर होता है। दांत के कीडें मरते है। छाल गठिया और लिवर रोगों में भी उपयोगी है।

09 इसकी फलियों की सब्‍जी बनाकर खाने से गुर्दे को लाभ होगा है। उच्‍च रक्‍तचाप के मरीजों के लिए फलियों का रस पीना हितकर माना जाता है।

10 ब्रोन्‍काइटिस एवं अस्‍थमा में इसके पत्‍तों का रस पीने से लाभ होता है। कब्‍ज के लिए कोमल पत्‍तों को नियमित खाना हितकर है। मोच लगी है, तो पत्‍तों को उबालकर व सेंक कर बांधना हितकर होता है।    

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें