A

2017-12-12

power bank output voltage ke bare me tathya



पावरबैंक का आउटपुट वोल्‍टेज पता है।
पावरबैंक केवल बैटरी क्षमता, साइज व रंग को देखकर न खरीदें, बल्कि कुछ अन्‍य चीजें हैं, जिनके ध्‍यान में रखना जरूरी है।
लंबे सफर पर नही आज हम ऑफिर जाते वक्‍त भी पावरबैंक साथ रखते है, क्‍योकि मौजूदा वक्‍त में फोन के अत्‍यधिक इस्‍तेमाल के कारण फोन की बैटरी जल्‍दी खत्‍म हो जाती है। एंड्रॉयड फोन में कुछ ऐसे ऐप भी होते है, जिनके इस्‍तेमाल से बैटरी ज्‍यादा खर्च होती है। ऐसे में पावरबैंक की आवश्‍यकता पडती है।
2.5 गुना ज्‍यादा क्षमता वालें पावरबैंक- फोन चाजिंर्ग के लिए पावरबैंक खरीदें, तो इस बात का जरूर ध्‍यान रखें कि पावरबैंक की क्षमता आपके स्‍मार्टफोन की बैटरी क्षमता से 2.5 गुना अधिक हो। इससे फोन तेजी से चार्ज होगा। साथ ही पावरबैंक की बैटरी भी लंम्‍बे समय तक चलेगी और आप अपने स्‍मार्टफोन को कई बार चार्ज कर सकते है। इसके साथ ही जब भी आप पावरबैंक लें, तो उसमें कितने एमएएच की बैटरी है इस पर जरूर ध्‍यान दें।

यूएसबी चार्जिंग- पावरबैंक खरीदते समय बैटरी  की क्षमता के साथ-साथ उसकी यूएसबी चार्जिंग को भी जांच-परख कर लें, क्‍योकि बाजार में मौजूद पुराने पावरबैंक केवल अपने यूएसबी केबल के साथ ही काम करते है। ऐसे में आपको पावरबैंक से अपने एंड्रॉयड फोन को चार्ज करने में काफी परेशानी होगी। ऐसे पावरबैंक आपके फोन के लिए किसी काम के नही होगे।
डिवाइस की संख्‍या के आधार पर ले पावरबैंक-
आजकल अधिकांश कामकाजी लोगों के पास एक से अधिक स्‍मार्टफोन मौजूद है। चार्जिंग की समस्‍या होने से दोनों फोन बेद न हो। इसके लिए ज्‍यादा क्षमता वाला पावरबैंक खरीदें। लेकिन अगर आपके पास एक ही डिवाइस है, तो कम क्षमता वाला पावरबैंक भी ले सकते है।     
 

पावरबैंक का आउटपुट वोल्‍टेज- पावरबैंक का इस्‍तेमाल करें, तो पावरबैंक के आउटपुट वोल्‍टेज का जरूर ध्‍यान रखें। यदि आपका पावरबैंक का आउटपुट वोल्‍टेज के बराबर नहीं है, तो फोन चार्ज नहीं होगा। ऐसे में इस बात का ध्‍यान रखें कि पावरबैंक का आउटपुट वोल्‍टेज हमेशा आपके फोन चार्जर के आउटपुट वोल्‍टेज के बराबर होना चाहिए। आउटपुट वोल्‍टेज के बराबर न होने पर आप अपने फोन के चार्जर से पावरबैंक को चार्ज भी नहीं कर पाएंगे।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें