A

2018-05-10

How Does Make Career In Sound Engineer In HIndi- Sound Engineer Me Career Kaise Banaye

Sound Engineer Kya Hota Hain?


आवाज को मीडिया के विभिन्‍न माध्‍यमों में प्रसारण से पहले खास तकनीक के जरिये उच्‍च गुणवत्‍ता वाला बनाया जाता हैा इसे निखारने का काम करते हैं साउंड इंजीनियऱ़.....................
फिल्‍मोंटीवी या रेडियो पर प्रसारित होने वाले कार्यक्रमों की आवाज की क्‍वालिटी इतनी बेहतर कैसे होती है विभिन्‍न माध्‍यामों से जो आवाज आप तक पहुचती हैउसकी क्‍वालिटी को कौन निखारता होगा चलचित्रों के साथ आवाज को स‍ही रुप में मिक्सिंग करने का काम किसका होता होगा इन तमाम सवालों का जवाब है साउंड इंजीनियर। जो टीवीरेडियोसिनेमा,थियेटर,रिकॉर्डिग आदि में साउंड को खास तकनीक के जरिये स्‍पष्‍ट और हाई डेफिनेशन यानी उच्‍च गुणवत्‍ता का बनाता है। इसके लिए कई तरह के टेक्निकल इंस्‍ट्रूमेंटस उपयोग किए जाते है।
1.
2.
3.
4.

5.

Sound Engineering Me Career Kaise Banaye?

 अगर आपका मन भी साउंड इंजीनियर बनने का हैतो पहले यह जान लेंकि कंप्‍यूटर और साउंड से जुडे इलेक्‍ट्रनिक उपकरणों मे कितनी रुचि है साउंड की समझ के साथ-2 सेंस ऑफ पिचटाइमिंग और रिदम जैसी स्किल्‍स भी जरूरी है। इसके अलावा साउंड/ऑडियो इंजीनियर को वीडियो टेक्‍नीशियंस, वीडियो एडिटर्सकलाकारों और डायरेक्‍टर्स से बेहतर तालमेल रखने का गुण भी होना जरूरी हैताकि वे माहौल के अनुसारजरूरी साउंड को स्‍पष्‍ट रखते हुए फिजूल के साउंड को रिकॉर्ड से हटा सके।

Sound Engineer Ke Courses and Qualifications


आजकल मीडिया और जनसंचार का क्षेत्र तेजी से आगे बढ रहा है। रेडियोइंटरनेट,टीवी,थियेटर आदि की बाढ आई हुई है। जाहिर हैइन माध्‍यमों के लिए साउंड इंजीनियर की मांग भी रहेगी। यानी कॅरियर के लिहाज से यह क्षेत्र आपके लिए बेहतर हो सकता है। सीनियर कॅरियर काउंसलरसंजीब कुमार आचार्यकहते कि इंवेटमीडिया,फिल्‍म,एंटरटेनमेंट के बढते दायरे के चलते इस क्षेत्र में साउंड इंजीनियरर्स की मा्ंग और बढेगी। इस फील्‍ड में आप छह माह से लेकर तीन साल तक के डिप्‍लोमासर्टिफिकेटपीजी डिप्‍लोमा, बैचलर या मास्‍टर डिग्री हासिल कर सकते है। इस फील्‍ड में आपको दिन-रात और दूर-दराज के क्षेत्रो में काम करने के लिए तैयार रहना होगा। आजकल स्‍पोर्ट्स इवेंट्सम्‍यूजिक शोथियेटरलाइव कन्‍सर्ट आदि का आयोजन देश-विदेशो में अलग-2 समय पर होता है। इसके लिए डायरेक्‍टर या प्रोडयूसर की एक पूरी टीम होती हैजिसे कलाकारों के साथ संबंधित जगह पर जाना होता हैा यानी यह क्षेत्र आपसे धैर्य की मांग भी करता है। अगर आप विज्ञान विषय से पीसीएम(फिजिक्‍स,केमेस्‍ट्री,मैथ्‍स) विषयों के साथ 12वीं पास हैतो इस पाठयक्रम के लिए आवेदन कर सकते है। सााउंड इंजीनियरिंग में छात्रो को ऑडियो राइटिंग,साउंड फ्रिक्‍वेंसी और साउंड स्‍पेशल इफेक्‍ट्स आदि के बारे में पढाया जाता है। साथ ही साउंड रिकॉर्डिग,एडिटिंग,मिक्सिंग आदि की तकनीकी व व्‍यवहारिक जानकारी दी जाती है। पाठयक्रम के दौरान छात्रों को रिकॉर्डिग टूल्‍स जैसे टेप मशीन,स्‍पीकरसिंगल प्रोसंसर,माइक्रोफोन,हेडफोन,माइक,इेलेक्‍ट्रॉनिक म्‍यूजिक इंस्‍ट्रूमेंट्स आदि का इस्‍तेमाल करना भी सिखाया जाता है।

1.
2.
3.
4.
5.

Sound Engineer Main Education Institute


फिल्‍म एंड टेलीविजन इंस्‍टीटयूट ऑफ इंडियापुणे

आईआईटी खडगपुर
सत्‍यजीत रे फिल्‍म एंड टेलीविजन इंस्‍टीटयूट,कोलकाता,पश्चिम बंगाल
एशियन एकेडमी ऑफ फिल्‍म एंड टीवी,नोएडाउत्‍तर प्रदेश
दिल्‍ली फिल्‍म इंस्‍टीटयूट,साउथ एक्‍सटेंशन,दिल्‍ली

Career Options In Sound Engineer


इस फील्‍ड की डिग्री,डिप्‍लोमा या सर्टिफिकेट हासिल करने के बाद आप इंजीनियर या टेक्‍नीशियन के रूप में टीवी चैनल्‍सफिल्‍म,रेडियो,स्‍टूडियो,मल्‍टीमीडिया डिजाइन,एनिमेशन,विज्ञापन आदि क्षेत्रों में काम कर सकते है। अनुभव होने पर आप खुद का रिकॉर्डिग सटूडियो भी खोल सकते है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें