A

2018-06-04

Group Discussion Kaise Kare Or How To Start Group Discussion Hindi Me

 ग्रुप डिस्कशन के मूल उद्देश्य और अपने क्षेत्र में जरूर स्कूल को ध्यान में रखकर प्रदर्शन को और बेहतर बनाया बनाया जा सकता है

 ग्रुप डिस्कशन दो तरह के होते हैं पहला विशेष आधारित और दूसरा केस स्टडी आधारित और विषय का निर्धारण चार कारकों पर आधारित होता है पहला ज्ञान आधारित जैसे जीएसटी एजुकेशन प्रणाली आदि दूसरा एस्से टॉपिक्स जैसे समाज सेटिंग सोशल नेटवर्किंग आदि जिसमें आपकी रचनात्मक सूझबूझ और कम्युनिकेशन को परखा जा सकता है पर खा जाता है चित्र विवादास्पद से बढ़ते महिला अपराधों के बारे में और चौथा कारक अपने मत को कारक अपने मत को प्रस्तुत करना होता है इसमें आपकी प्रस्तुति करण और नेतृत्व कौशल का परीक्षण किया जाता है किसी स्त्री आधारित GD में एक समस्या या परिस्थिति आती जाती है इसमें व्यक्ति की निर्णय क्षमता रोहित प्रक्रिया और प्रबंधन के हुनर को जांचा जाता है

 GD का सबसे हम उद्देश्य कम्युनिकेशन और टीम वर्क स्किल को परखना होता है

 GD दो तरह के होते हैं जिसमें एक है विषय आधारित और दूसरा केस स्टडी आधारित

 कौन होता है मॉडल पेपर जी डी के संचालक या जज को मारे गए पर कहा जाता है वहीं बड़ी GD शुरू करने वाले को इन होम थिएटर बाकी प्रतिभागियों को कांटेक्ट बिल्डर और चर्चा को खत्म करने वाले को इंडिगो कलर कहा जाता है


 क्या करें और क्या ना करें बेस्ट सेलर लेखिका की क्लास होती है कि व्यवहार की छोटी-छोटी बातों पर अक्सर ज्यादा ध्यान नहीं दिया जाता लेकिन यही बातें शरीर को बनाने और बिगाड़ने में अहम भूमिका निभाती है GD का उद्देश्य व्यक्ति के व्यवहार को परखना होता है जीडी में सबसे ज्यादा फोकस कम्युनिकेशन होती मगर इसके ऊपर होता है करने के तरीके को प्रैक्टिस से भी बेहतर बनाया जा सकता है इसके लिए आप भाषा और शैली में सुधार करें सबसे पहले अपने पॉइंट्स बनाएं जिससे आप अपने पक्ष मजबूती से रख सकें अपनी बातों में हमेशा खराब है और एक पत्र लिखें यदि आप दूसरे के बारे में बखूबी जानते हैं तो मौका ना कहो अब शुरूआत करने की कोशिश करें इससे आपके ज्ञान और नेतृत्व कौशल दोनों का परिचय मिलता है जीत के दौरान एक अच्छे श्रोता बने दूसरों की बातों को भी उतरना भी गौर और रुचि सुने जितनी उम्मीद आप अपने बोलने वक्त दूसरे से करते हैं

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें